चैप्टर 3 गोदान : मुंशी प्रेमचंद का उपन्यास | Chapter 3 Godan Novel By Munshi Premchand Read Online

Chapter 3 Godan Novel By Munshi Premchand   Chapter 1 | 2 | 3 | 4 | 5 Prev | Next | All Chapters होरी अपने गाँव के समीप पहुँचा, तो देखा, अभी तक गोबर खेत में ऊख गोड़ रहा है और दोनों लड़कियाँ भी उसके साथ काम कर रही हैं। लू चल रही थी, बगूले … Read more

चैप्टर 2 गोदान : मुंशी प्रेमचंद का उपन्यास | Chapter 2 Godan Novel By Munshi Premchand Read Online

Chapter 2 Godan Novel By Munshi Premchand Chapter 1 | 2 | 3 | 4 | 5 Prev | Next | All Chapters सेमरी और बेलारी दोनों अवध-प्रांत के गाँव हैं। ज़िले का नाम बताने की कोई ज़रूरत नहीं। होरी बेलारी में रहता है, राय साहब अमरपाल सिंह सेमरी में। दोनों गाँवों में केवल पाँच मील … Read more

ताई : विश्वंभर शर्मा ‘कौशिक’ की कहानी | Tai Story By Vishwambharnath Sharma ‘Koushik’

Tai Kahani Vishwambharnath Sharma Koushik (1) ”ताऊजी, हमें लेलगाड़ी (रेलगाड़ी) ला दोगे?” कहता हुआ एक पंचवर्षीय बालक बाबू रामजीदास की ओर दौड़ा। बाबू साहब ने दोंनो बाँहें फैलाकर कहा – ”हाँ बेटा,ला देंगे।” उनके इतना कहते-कहते बालक उनके निकट आ गया। उन्होंने बालक को गोद में उठा लिया और उसका मुख चूमकर बोले – “क्या … Read more

चैप्टर 8 देवदास : शरत चंद्र चट्टोपाध्याय का उपन्यास | Chapter 8 Devdas Novel By Sharat Chandra Chattopadhyay

Chapter 8 Devdas Novel In Hindi Chapter 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 Prev | Next | All Chapters दोनो भाई-द्विजदास और देवदास-तथा गाँव के बहुत-से लोग जमीदार मुखोपाध्याय की अंतेष्टिक्रिया समाप्त कर घर लौट आये। द्विजदास चिल्ला-चिल्लाकर रोते-रोते पागल की भांति सो … Read more

चैप्टर 7 देवदास : शरत चंद्र चट्टोपाध्याय का उपन्यास | Chapter 7 Devdas Novel By Sharat Chandra Chattopadhyay

Chapter 7 Devdas Novel In Hindi Chapter 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 Prev | Next | All Chapters दो-तीन दिवस देवदास ने पागलों की भांति इधर-उधर घूम-घामकर बिताये। धर्मदास कुछ कहने गया, तो उस पर आँखें लाल-लाल कर धमका के भगा दिया। … Read more

चैप्टर 1 गोदान : मुंशी प्रेमचंद का उपन्यास | Chapter 1 Godan Novel By Munshi Premchand Read Online

Chapter 1 Godan Novel By Munshi Premchand Chapter 1 | 2 | 3 | 4 | 5 Next | All Chapters होरीराम ने दोनों बैलों को सानी-पानी देकर अपनी स्त्री धनिया से कहा – “गोबर को ऊख गोड़ने भेज देना। मैं न जाने कब लौटूं। ज़रा मेरी लाठी दे दे।“ धनिया के दोनों हाथ गोबर … Read more

चैप्टर 13 मनोरमा : मुंशी प्रेमचंद का उपन्यास | Chapter 13 Manorama Novel By Munshi Premchand Read Online

Chapter 13 Manorama Novel By Munshi Premchand Chapter 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 Prev | Next | All Chapters चक्रधर को जेल में पहुँचकर ऐसा मालूम हुआ कि वह नई दुनिया में आ गए। उन्हें ईश्वर के दिए हुए वायु और प्रकाश के … Read more

चैप्टर 6 देवदास : शरत चंद्र चट्टोपाध्याय का उपन्यास | Chapter 6 Devdas Novel By Sharat Chandra Chattopadhyay

Chapter 6 Devdas Novel In Hindi Chapter 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 Prev | Next | All Chapters पार्वती ने आकर देखा, उसके स्वामी की बहुत बड़ी हवेली है। नये साहिबी फैशन की नहीं, पुराने ढंग की है। सदर-महल,अंदर-महल, पूजा का दालान, … Read more

चैप्टर 5 देवदास : शरत चंद्र चट्टोपाध्याय का उपन्यास | Chapter 5 Devdas Novel By Sharat Chandra Chattopadhyay

Chapter 5 Devdas Novel In Hindi Chapter 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 Prev | Next | All Chapters और देवदास? उन्होंने उस दिन कलकत्ता के ईडन गार्डन की एक बेंच पर बैठे-बैठे सारी रात बिता दी। उन्हें अत्यंत क्लेश आथवा मार्मिक वेदना … Read more

चैप्टर 18 नीले परिंदे : इब्ने सफ़ी का उपन्यास हिंदी में | Chapter 18 Neele Parindey Novel By Ibne Safi ~ Imran Series Read Online

Chapter 18 Neele Parindey Novel By Ibne Safi Chapter 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 Prev | All Chapters उसी शाम इमरान रूशी और फैयाज़ रॉयल होटल में चाय पी रहे थे। फैयाज़ का चेहरा उतरा हुआ था। इमरान कह रहा … Read more