गबन : मुंशी प्रेमचंद का उपन्यास | Gaban Novel By Munshi Premchand In Hindi Read Online




प्रस्तुत है –  गबन मुंशी प्रेमचंद का उपन्यास (Gaban Novel By Munshi Premchand In Hindi Read Online) Gaban Munshi Premchand Ka Upanyas, ebook

Gaban Novel By Munshi Premchand

Gaban Novel By Munshi Premchand

Gaban

By

Munshi Premchand

गबन उपन्यास का सारांश 





गबन उपन्यास मुंशी प्रेमचंद द्वारा रचित एक यथार्थवादी उपन्यास है, जिसे नारी समस्या को केंद्र में रखकर लिखा गया है. इसका मूल विषय स्त्रियों का अपने पति के जीवन पर प्रभाव है. पति के गहनों के प्रति प्रेम के कारण पति और परिवार के जीवन में आये उतार-चढ़ाव का सजीव चित्रण करता है मुंशी प्रेमचंद का यह उपन्यास. इस मूल विषय को लेकर ततकालीन भारतीय समाज का चित्रण किया गया है.

जालपा एक ऐसी स्त्री है, जिसे गहनों से अत्यधिक मोह है. वह चन्द्रहार पाने के लिए लालायित है. उसका पति एक क्लर्क है, जिसकी आमदनी कम है, किन्तु पत्नी के सामने वह स्वयं को रईस और पैसे वाला जतलाता है. स्त्री की लालसा पति को कैसे गबन के लिए विवश करती है? कैसे वह इन जंजाल में उलझता जाता है? यह इस उपन्यास में वर्णन किया गया है.     





अध्याय | Chapters


Chapter 1

Chapter 2

Chapter 3

Chapter 4

Chapter 5

Chapter 6

Chapter 7

Chapter 8

Chapter 9

Chapter 10

Chapter 11

Chapter 12

Chapter 13

Chapter 14

Chapter 15

Chapter 16

Chapter 17

Chapter 18

Chapter 19

Chapter 20

Chapter 21

Chapter 22

Chapter 23

Chapter 24

Chapter 25

Chapter 26

Chapter 27 

Chapter 28

Chapter 29

Chapter 30

Chapter 31

Chapter 32

Chapter 33

Chapter 34

Chapter 35

Chapter 36

Chapter 37

Chapter 38

Chapter 39

Chapter 40

Chapter 41

Chapter 42

Chapter 43

Chapter 44

Chapter 45

Chapter 46

Chapter 47

Chapter 48

Chapter 49

Chapter 50

Chapter 51 [last]