तस्वीर : शिक्षाप्रद कहानी

Tasweer Moral Story In Hindi


Tasweer Moral Story In Hindi

Tasweer Moral Story In Hindi

एक शहर में एक चित्रकार रहता था. उसकी बनाई हुई तस्वीरें बहुत खूबसूरत हुआ करती थी.

एक दिन उसने एक बहुत ही खूबसूरत तस्वीर बनाई और उसे ले जाकर शहर के चौराहे पर टांग दिया. तस्वीर के नीचे उसने लिख दिया – ‘इस तस्वीर में यदि कोई कमी दिखाई पड़े, तो उस जगह निशान लगा दे.’ और तस्वीर वहीं छोड़कर वह वापस चला आया.

शाम को जब वह लौटा, तो देखा कि उसकी बनाई तस्वीर निशानों से भरी हुई है. आने-जाने वालों ने निशान लगाकर वह तस्वीर ख़राब कर दी थी. वह बहुत दु:खी हुआ.

ठीक उसी समय उसका एक मित्र वहाँ पहुँचा. चित्रकार को दु:खी देख उसने उसके दुःख का कारण पूछा. जब चित्रकार ने पूरी बात बताई, तो मित्र ने कहा, “एक काम करो. आज तुम घर जाकर एक दूसरा चित्र बनाओ और कल आकर उसे इसी चौराहे पर टांग दो. लेकिन इसके नीचे वह मत लिखना जो तुमने आज लिखा. लिखना कि जिसे भी इस चित्र में कोई कमी नज़र आये, वह उसे सुधार दे.”

चित्रकार ने वैसा ही किया. दूसरे दिन शाम को जब वह चौराहे पर पहुँचा, तो उसने देखा कि किसी ने चित्र पर कोई निशान नहीं लगाये है.

उसे समझते देर न लगी कि संसार की यही रीत है. दूसरों की कमियां निकालने में तो सब आगे रहते हैं, लेकिन जब उसे सुधारने की बारी आती है, तो सब पीछे हट जाते हैं.

मित्रों, ब्रह्माण्ड का यही नियम है. जो ढूंढेंगे, वही पाएंगे. यदि कमियाँ ढूंढने निकलेगें, तो कमियाँ ही मिलेंगी. इसलिए किसी चीज़ में कमियाँ न ढूंढकर उसे बेहतर बनाने के लिए सुझाव मांगें. ज़िंदगी बेहतरीन हो जायेगी.


Read More Stories :

¤ अभिमान अच्छा नहीं : शिक्षाप्रद कहानी

¤ गुणवान पुत्र : शिक्षाप्रद कहानी

¤ बुरी आदतें : शिक्षाप्रद कहानी

¤ एक लोटा दूध : शिक्षाप्रद कहानी

Friends, यदि आपको “Tasweer Moral Story In Hindi” पसंद आई हो, तो आप इसे Share कर सकते है. कृपया अपने comments के माध्यम से बताएं कि आपको यह कहानी कैसी लगी. नई post की जानकारी के लिए कृपया subscribe करें. धन्यवाद.

 

Posted in Moral Story and tagged , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *