बैल का दूध अकबर बीरबल की कहानी | Milk Of An Ox Akbar Birbal Story In Hindi

बादशाह अकबर का दरबार लगा हुआ था. दरबार में अन्य सभी दरबारी उपस्थित थे, केवल बीरबल को छोड़कर. बीरबल की अनुपस्थिति का लाभ उठाकर कुछ दरबारी उनके विरूद्ध बादशाह के कान भरने लगे. वे कहने लगे, “जहाँपनाह! बीरबल अक्सर दरबार में विलंब से आते है और चालाकीपूर्ण बातों से आपको मना लेते हैं.”

बीरबल की अक्लमंदी : अकबर बीरबल की कहानियाँ | Birbal Ki Akalmandi Akbar Birbal Story In Hindi

बीरबल की अक्लमंदी और हाज़िरजवाबी के सामने अक्सर दरबार के मंत्रियों को नीचा देखना पड़ता था. इसलिए वे मन ही मन बीरबल से इर्ष्या करते थे. एक मंत्री बादशाह का मुख्य सलाह्कर बनने का इच्छुक था. लेकिन बीरबल के मुख्य सलाहकार के पद पर रहते तक ऐसा होना संभव नहीं था. इसलिए वह हमेशा कोई न कोई युक्ति सोचता रहता, ताकि बीरबल को उस पद से हटाया जा सके.

हरे रंग का घोड़ा अकबर बीरबल की कहानी | The Green Horse Akbar Birbal Story In Hindi

बादशाह अकबर अक्सर अपने शाही बाग़ में वक़्त गुज़ारने जाया करते थे. एक दिन वे अपने घोड़े पर बैठकर वहाँ गए. हमेशा की तरह उनके साथ बीरबल भी था. शाही बाग़ की हरियाली को देखकर अकबर के मन में ख्याल आया कि इतने हरे-भरे बगीचे में घूमने के लिए यदि घोड़ा भी हरे रंग का हो, तो कितना बढ़िया हो.

रेत और चीनी का मिश्रण अकबर बीरबल की कहानी | Mixture Of Sand And Sugar Akbar Birbal Story In Hindi

बादशाह अकबर का दरबार लगा हुआ था और राजकीय कार्यवाही चल रही थी. इस बीच वहाँ एक दरबारी हाथ में एक मर्तबान लेकर पहुँचा. मर्तबान देख अकबर ने आश्चर्य से पूछा, “इस मर्तबान में क्या है?” “जहाँपनाह! इसमें रेत और चीनी का मिश्रण है.” उस दरबारी ने उत्तर दिया. “लेकिन इसे दरबार में लेकर क्यों आये हो?” अकबर दरबार में मर्तबान लाने का अर्थ समझ नहीं पा रहे थे.

छोटा बांस-बड़ा बांस अकबर बीरबल की कहानी | Short Bamboo-Big Bamboo Akbar Birbal Story In Hindi

अकबर अक्सर बीरबल को लेकर सैर पर निकल जाया करते थे. एक दिन ऐसे ही बीरबल के साथ वे बाग़ में सैर कर रहे थे. बीरबल लतीफ़ा सुना रहा था और अकबर उसका आनंद ले रहे थे.तभी अचानक अकबर को घास पर पड़ा हुआ बांस का एक टुकड़ा दिखाई दिया. उन्होंने वह टुकड़ा उठा लिया और मन ही मन उन्होंने बीरबल की परीक्षा लेने का निर्णय कर किया.

अकबर  बीरबल से कैसे मिले? | How Akbar Met Birbal Story In Hindi

बादशाह अकबर शिकार के बहुत शौक़ीन थे. एक दिन वे अपने सिपाहियों के साथ शिकार पर निकले. शिकार करते-करते उन्हें पता ही नहीं चला कि कब वे अपने कुछ सिपाहियों के साथ वन में बहुत आगे निकल आये और रास्ता भटक गए. बाकी सिपाही पीछे कहीं छूट गए. शाम ढल चुकी थी. बादशाह और उनके साथ के सिपाहियों का भूख-प्यास के मारे बुरा हाल था.