Sabhyata George Washington Prerak Prasang

सभ्यता : जॉर्ज वाशिंगटन का प्रेरक प्रसंग

Sabhyata George Washington Prerak Prasang

Sabhyata George Washington Prerak Prasang

यह प्रेरक प्रसंग अमरीका के प्रथम राष्ट्रपति जॉर्ज वाशिंग्टन के जीवन से जुड़ा हुआ है.

एक बार जॉर्ज वाशिंग्टन अपने मित्रों तथा अन्य उच्चाधिकारियों के साथ कहीं जा रहे थे. रास्ते में उन्हें एक हब्शी मिला. उसने वाशिंग्टन को देखते ही अपनी टोपी उतार ली और उनका अभिवादन करने लगा. वाशिंग्टन ने भी ठीक उसी तरीके से अपनी टोपी उतार कर उसके अभिवादन का उत्तर दिया. यह सब देख रहे उनके मित्रों को उनका यह व्यवहार कुछ अजीब सा लगा.

कुछ दूर जाने के बाद उनके मित्रों ने पूछा, “आप भी अजीब है, उस काले आदमी के प्रति इस तरह सम्मान प्रदर्शित करते है. इसकी क्या आवश्यकता थी?”

इस पर वाशिंग्टन बोले, “मित्रों! उस बेचारे अशिक्षित आदमी ने मुझे देखकर इतनी सभ्यता दिखाई, तो मैं उसके सामने असभ्य व्यवहार कैसे कर सकता था? ज़रा विचार करो मैं उसके सामने कितना ओछा सिद्ध हो जाता.”

सीखचाहे हम कितने भी ऊँचे पद या स्थान पर पहुँच जाएँ, हमारा व्यवहार ही हमारे संस्कार और हमारी सभ्यता प्रदर्शित करता है. 

 

दोस्तों, आप पढ़ रहे थे “Sabhyata George Washington Prerak Prasang”. इन प्रेरक प्रसंगों को भी अवश्य पढ़ें :

¤ तीन कसौटियां : सुकरात का प्रेरक प्रसंग

¤ जीनियस : थॉमस एडिसन का प्रेरक प्रसंग

¤ सफलता का रहस्य : सुकरात का प्रेरक प्रसंग

¤ हमेशा भगवान के शुक्रगुजार रहें : आर्थर ऐश का प्रेरक प्रसंग

¤ लक्ष्य पर ध्यान : स्वामी विवेकानन्द का प्रेरक प्रसंग

¤ उदारता :महात्मा गांधी का प्रेरक प्रसंग

¤ दूसरा दीपक : चाणक्य प्रेरक प्रसंग

¤ कर्त्तव्यपालन : स्व. लाल बहादुर शास्त्री का प्रेरक प्रसंग

¤ सेवा धर्म ” स्वामी विवेकानंद का प्रेरक प्रसंग 

 

दोस्तों, आपको “Sabhyata George Washington Prerak Prasang” कैसा लगा? आप अपने comments के माध्यम से हमें बता सकते है. धन्यवाद.

 

 

Posted in Prerak Prasang and tagged , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *