एक डॉलर की जर्सी : माइकल जॉर्डन का प्रेरक प्रसंग

Ek Dollar Ki Jursey Michael Jordan Prerak Prasang


Ek Dollar Ki Jursey Michael Jordan Prerak Prasang

Ek Dollar Ki Jursey Michael Jordan Prerak Prasang

माइकल जॉर्डन भूतपूर्व अमरीकी बास्केटबॉल खिलाड़ी हैं, जिन्होंने ६ NBA Championships में Chicago Bulls का प्रतिनिधित्व किया और ५ बार Most Valuable Player अवार्ड से नवाज़े गए.

माइकल के जीवन को सही दिशा देने में उनके माता-पिता का बहुत बड़ा योगदान रहा. उन्होंने उन्हें सफलता प्राप्ति के लिए अनुशासन, सकारात्मक सोच और कर्मठता का पाठ पढ़ाया.

यह प्रेरक प्रसंग उस समय का है, जब वे महज़ १३ वर्ष के थे.

एक दिन उनके पिता ने उन्हें अपने पास बुलाया और एक पुरानी जर्सी दिखाते हुए पूछा, “माइकल, बताओ इसका मूल्य कितना होगा?”

“लगभग १ डॉलर.” माइकल ने उत्तर दिया.

“सही कहा. अब तुम्हें इसे २ डॉलर में बेचना है.” कहते हुए पिता ने वह जर्सी माइकल के हाथ में दे दी.

माइकल ने वह जर्सी अच्छी तरह धोई. फिर उसे सुखाकर इस्त्री करने के बाद वे पास के रेल्वे स्टेशन पर चले गए. वहाँ ५ घंटे की मेहनत के बाद उस जर्सी को वे २ डॉलर में बेच सके. शाम को घर आकर उन्होंने ख़ुशी-ख़ुशी २ डॉलर अपने पिता के हाथ में रख दिए.

१५ दिन बाद माइकल के पिता ने उन्हें फिर से बुलाया और एक वैसी ही जर्सी देते हुए बोले, “अब तुम्हें इसे २० डॉलर में बेचना है.”

“इसके २० डॉलर कौन देगा पिताजी?” माइकल ने हैरानी से पूछा.

“कोशिश तो करके देखो.” पिता ने कहा और माइकल के हाथ में जर्सी थमा दी.

माइकल सोच में पड़ गए कि कैसे उस १ डॉलर की जर्सी को २० डॉलर में बेचें? कुछ देर सोचने के बाद उन्हें एक उपाय सूझ गया. अपने एक मित्र से उन्होंने उस जर्सी पर मिकी माउस और डोनाल्ड डक का कार्टून पेंट करवाया. फिर शहर के सबसे मंहगे स्कूल के सामने जाकर उसे बेचने के लिए खड़े हो गए.

स्कूल की छुट्टी होने के बाद घर जाते समय जब एक छोटे बच्चे ने मिकी माउस और डोनाल्ड डक वाली जर्सी देखी, तो अपने पिता से उसे खरीदने की जिद करने लगा. उस बच्चे के पिता ने वह जर्सी २० डॉलर में खरीद ली और साथ में माइकल को ५ डॉलर का टिप भी दिया.

⇔ आप पढ़ रहे हैं : Ek Dollar Ki Jursey Michael Jordan Prerak Prasang 

१ डॉलर मूल्य की जर्सी को २५ डॉलर में बेचने के बाद माइकल ख़ुशी-ख़ुशी घर आ गए और अपने पिता को अपने कमाये २५ डॉलर दिए.

कुछ दिनों बाद माइकल के पिता ने उन्हें फिर से बुलाया. एक और वैसी ही जर्सी देते हुए वे उनसे बोले, “अब इसे २०० डॉलर में बेचकर आओ.”

यह कार्य कठिन था. लेकिन माइकल ने इस बार कुछ नहीं कहा क्योंकि पूर्व में दो बार वह पिता के दिए कार्य में सफल हो चुके थे.

अपने पिता से वह जर्सी ले वह उसे बेचने का उपाय सोच ही रहे थे कि उन्हें पता चला कि उस दिन शहर में प्रसिद्ध हिरोइन Farah Fawcett आई हुई हैं. बस माइकल को उपाय सूझ गया. वे उस जगह पहुँच गये, जहाँ Farah Fawcett की प्रेस कांफ्रेंस थी. भीड़ को चीरते हुए वे Farah Fawcett के सामने जाकर खड़े हो गए और उनसे उस जर्सी पर ऑटोग्राफ माँगने लगे. १३ वर्षीय माइकल के मासूम चेहरे को देखकर Farah Fawcett ने उस जर्सी पर अपना ऑटोग्राफ दे दिया.

वहाँ से निकलकर माइकल बाज़ार गए और वहाँ वह जर्सी बेचने लगे. प्रसिद्ध हिरोइन का ऑटोग्राफ होने के कारण लोग उस जर्सी को खरीदने के लिए उतावले हो गए. माइकल के आस-पास लोगों की भीड़ लग गई और वे बोलियां लगाने लगे. अंततः २००० डॉलर की अधिकतम बोली लगाकर एक व्यक्ति ने वह जर्सी खरीद ली.

२००० डॉलर लेकर जब माइकल घर पहुँचे और पिता के हाथ में वह पैसे रखे, तो पिता बहुत प्रसन्न हुए. उन्होंने माइकल से पूछा, “बेटा, इन तीन जर्सियों को बेचने के अनुभव से तुमने क्या सीखा?”

“जहाँ चाह वहाँ राह.” माइकल ने उत्तर दिया.

“ठीक कहा तुमने. लेकिन इसके साथ ही यह अनुभव एक और महत्वपूर्ण बात सिखाता है. तुमने देखा कि कैसे १ डॉलर की जर्सी २००० डॉलर की हो गई. इंसान भी अपना मूल्य इसी तरह बढ़ा सकते हैं. वे चाहे कैसे भी हालात में पैदा हुए हों, कैसी भी परिस्थितियों में पले-बढ़ें हों, उन्हें खुद को कमतर नहीं समझना चाहिए. अच्छे गुणों को विकसित कर वे खुद को महान बना सकते है. तराशने के पूर्व हीरा भी तो पत्थर ही होता है, लेकिन तराशने के बाद वह अमूल्य हो जाता है. खुद को तराशो, लगातार सुधार करते रहो और बेहतर से बेहतरीन बन जाओ.”


Friends, यदि आपको “Ek Dollar Ki Jursey Michael Jordan Prerak Prasang” पसंद आया हो, तो आप इसे Share कर सकते है. कृपया अपने comments के माध्यम से बताएं कि आपको यह कहानी कैसी लगी. नई post की जानकारी के लिए कृपया subscribe करें. धन्यवाद.

आप पढ़ रहे थे : Ek Dollar Ki Jursey Michael Jordan Prerak Prasang. अन्य प्रेरक प्रसंग भी अवश्य पढ़ें :

¤ व्याख्या : अल्बर्ट आइंस्टीन का प्रेरक प्रसंग

¤ मौत का सौदागर ” अल्फ्रेड डायनामाइट का प्रेरक प्रसंग

¤ मिलियन डॉलर पेंटिंग : पाब्लो पिकासो का प्रेरक प्रसंग

 

Posted in Prerak Prasang and tagged , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *