खेत की खुदाई : प्रेरणादायक कहानी | Khet Ki Khudai Motivational Story In Hindi  

एक गाँव में एक बूढ़ा आदमी अपने बेटे के साथ रहता था. एक दिन पुलिस उसके घर आई और उसके बेटे पर हथियार चुराने का आरोप लगाकर पकड़ कर ले गई. उसे जेल में बंद कर दिया गया. बूढ़ा आदमी हर साल अपने खेत में आलू उगाया करता था. आलू की अच्छी पैदावार उसे अच्छी आमदनी दिला जाती थी और साल भर का उसका खर्चा निकल जाता था.

सत्रह ऊँट और तीन पुत्र : प्रेरणादायक कहानी | Seventeen Camels And Three Sons Motivational Story In Hindi

रेगिस्तानी इलाके में स्थित एक गाँव में एक वृद्ध व्यक्ति अपने तीन पुत्रों के साथ रहता था. उसके पास १७ ऊँट थे. एक दिन उस वृद्ध की मृत्यु हो गई. अपनी लिखी वसीयत में उसने अपनी संपत्ति के साथ–साथ १७ ऊँटों का भी अपने पुत्रों के मध्य बंटवारा किया था. संपत्ति तो बराबर-बराबर सभी पुत्रों में बांट दी गई. लेकिन ऊँटों की संख्या १७ थी, जो एक विषम और अभाज्य संख्या है. इसलिए उसका बराबर बंटवारा संभव नहीं था.

स्वयं को बदलिये प्रेरणादायक कहानी | Change Yourself Motivational Story In Hindi

बहुत पहले की बात है. एक राज्य में एक राजा राज करता था. वह बहुत दयालु और कृपालु था. समय-समय पर अपने राज्य में भ्रमण कर वह जनता के सुख-दुःख का समाचार लेता रहता था. सर्वदा वह घोड़े पर भ्रमण के लिए निकलता था. किंतु एक बार उसने पैदल ही भ्रमण पर निकलने का निश्चय किया. उसने कई स्थानों की यात्रा की और गाँव-गाँव जाकर लोगों से भेंट की. लोग भी राजा को अपने मध्य पाकर बहुत प्रसन्न थे.

धैर्य का फल प्रेरणादायक कहानी | Dhairya Ka Phal Motivational Story In Hindi

एक गरीब किसान को उसके एक मित्र ने कुछ बीज दिये और उसे बताया कि ये बीज बांस के पेड़ की उस प्रजाति के हैं, जो चीन में पाए जाते है. इन पेड़ों की ऊँचाई ९० फीट तक होती है. किसान ने वे बीज अपने मित्र से ले लिए और उन्हें अपने खेत में बो दिये. उसे आशा थी कि जिस दिन वे बांस के ऊंचे पेड़ बन जायेंगे, उन बांसों को बेचकर उसे अच्छी आमदनी होगी और उसका परिवार एक अच्छा जीवन जी पायेगा.

अपनी रणनीति बदलिये प्रेरणादायक कहानी | Change Your Strategy Motivational Story In Hindi

एक अंधा आदमी एक बड़ी ईमारत की सीढ़ियों पर सुबह से बैठा हुआ था. अपनी ओर लोगों का ध्यान खींचने के लिए उसने अपने बगल में एक स्लेट रखी हुई थी, जिस पर लिखा हुआ था : “मैं अँधा हूँ. मेरी मदद करें.” लोगों के पैसे डालने के लिए उसने अपने पैरों के पास अपनी टोपी उल्टी करके रखी हुई थी.

जीवन का दर्पण Motivational Story In Hindi

जीवन का दर्पण Motivational Story In Hindi [siteorigin_widget class=”SiteOrigin_Widget_SocialMediaButtons_Widget”][/siteorigin_widget] [siteorigin_widget class=”SiteOrigin_Widget_Image_Widget”][/siteorigin_widget] [siteorigin_widget class=”SiteOrigin_Widget_Headline_Widget”][/siteorigin_widget] जीवन का दर्पण  Motivational Story In Hindi   एक दिन जब ऑफिस के सभी कर्मचारी ऑफिस पहुँचे, […]

श्री श्री रवि शंकर के अनमोल विचार | Shree Shree Ravi Shankar Quotes In Hindi

जीवन ऐसा नहीं है, जिसके प्रति बहुत गंभीर रहा जाए. जीवन तुम्हारे हाथों में खेलने के लिए एक गेंद है. गेंद को पकड़े मत रहो. – श्री श्री रवि शंकर

तो क्या अगर कोई तुम्हें पहचानता है: ओह, तुम एक शानदार व्यक्ति हो. तो क्या? उस व्यक्ति के दिमाग में वो विचार आया और गया. वह भी समाप्त हो गया. वो स्मृति जा चुकी है. हो सकता है कि कुछ दिन, कुछ माह, वो तुम्हारे प्रति आकर्षण रखे, तो क्या? वो भी चला जाता है, ये भी चला जाता है . – श्री श्री रवि शंकर

जीवन का दर्पण : Motivational Story In Hindi

जीवन का दर्पण Motivational Story In Hindi   एक दिन ऑफिस के सारे कर्मचारी जब ऑफिस पहुँचे, तो उन्होंने दरवाजे पर एक पर्ची चिपकी हुई देखी. जिस पर लिखा हुआ था […]

सफलता का रहस्य : Socrates Prerak Prasang

सफलता का रहस्य: महान दार्शनिक सुकरात का प्रेरक प्रसंग  Socrates Prerak Prasang एक बार एक नौजवान लड़का महान दार्शनिक सुकरात के पास आया और उनसे पूछा, “सफलता का रहस्य क्या […]

सकारात्मक और नकारात्मक सोच ¦ Motivational Hindi Story

 सकारात्मक और नकारात्मक सोच  Motivational Hindi Story     एक नगर में एक धनी व्यापारी रहता था. एक दिन व्यापार के सिलसिले में वह यात्रा पर निकला. मार्ग में एक […]

अंतिम दौड़ प्रेरणादायक कहानी | Antim Daud Motivational Story In Hindi

बहुत समय पहले की बात है. एक प्रसिद्ध ऋषि गुरुकुल में बालकों को शिक्षा प्रदान किया करते थे. उनके गुरुकुल में अनेक राज्यों के राजकुमारों के साथ-साथ साधारण परिवारों के बालक भी शिक्षा प्राप्त करते थे. उस दिन वर्षों से शिक्षा प्राप्त कर रहे शिष्यों की शिक्षा पूर्ण हो रही थी और सभी बड़े ही उत्साह से अपने-अपने घर लौटने की तैयारी में थे.