A Glass Of Milk Dr Howard Kelly Prerak Prasang

एक गिलास दूध : डॉ. हॉवर्ड केली का प्रेरक प्रसंग


A Glass Of Milk Dr Howard Kelly Prerak Prasang

A Glass Of Milk Dr Howard Kelly Prerak Prasang

एक गरीब लड़का अपनी पढ़ाई का खर्च निकालने के लिए घर-घर जाकर सामान बेचा करता था. एक बार पूरा दिन बीत जाने पर भी उसका एक भी सामान नहीं बिका.

शाम हो आई थी और उसे जोरों की भूख लगने लगी थी. लेकिन उसके पास पैसे नहीं थे कि वह कुछ खरीद कर खा सके. उसने सोचा कि अब अगला जो भी घर होगा, वहाँ वह खाना मांग लेगा.

कुछ दूर जाने के बाद एक घर आया. उसने जब घर का दरवाजा खटखटाया. तो एक लड़की दरवाजा खोलकर बाहर निकली. लड़के ने सोचा तो था कि वह उस घर से खाना मांगेगा, लेकिन वह घबरा गया और घबराहट में खाने की जगह एक गिलास पानी मांग बैठा.

लड़की उस लड़के का चेहरा देखकर भांप गई कि वह बहुत भूखा है. इसलिए वह अंदर जाकर एक बड़े गिलास में दूध ले आई और लड़के को देते हुये बोली, “पी लो. यह तुम्हारे लिए है.”

लड़के ने दूध पी लिया और पूछा, “इस दूध के कितने पैसे हुए?”

“पैसे किस बात के?” लड़की बोली, “किसी भला करो, तो उसके पैसे नहीं लेते. भलाई की भी क्या कोई कीमत होती है.”

लड़की को धन्यवाद देकर लड़का वहाँ से चला गया. उस दिन उसके मन में ईश्वर प्रति आस्था और बढ़ गई. उसे यकीन हो गया कि इस दुनिया में इंसानियत अब भी जिंदा है.

इस घटना को कई साल बीत गए. एक दिन वह लड़की बहुत बीमार पड़ गई. बीमारी की गंभीरता को देखते हुए उसे शहर के एक बड़े अस्पताल में ले जाया गया.

जब अस्पताल में भर्ती लड़की की हालत बिगड़ने लगी थी, तो प्रसिद्ध डॉक्टर हॉवर्ड केली को बुलाया गया. केली अस्पताल पहुँचे. जब वे मरीज़ को देखने गए, तो उस लड़की को पहचान गए. उन्होंने ठान लिया कि वे उस लड़की को कुछ भी करके बचाकर रहेंगे.

ऑपरेशन के बाद लड़की की हालत में सुधार होने लगा. कुछ दिनों में वह पूरी तरह से स्वस्थ हो गई. जब डिस्चार्ज का समय आया और लड़की के हाथ में एक लिफ़ाफे में अस्पताल का बिल थमाया गया. तो उसका दिल धड़क उठा कि अस्पताल का लंबा-चौड़ा बिल वह कैसे चुका पायेगी.

धीरे से उसने लिफ़ाफ़ा खोला और बिल पर लिखी हुई रकम पर नज़र डाली. उस बिल के कोने में एक नोट भी लिखा हुआ था. वह उस नोट को पढ़ने लगी, “इस बिल का भुगतान एक गिलास दूध के द्वारा पहले ही किया जा चुका है.” नीचे डॉ. हॉवर्ड केली के हस्ताक्षर थे. डॉ. केली वही गरीब लड़के थे, जिसे कई सालों पहले उस लड़की ने एक गिलास दूध दिया था.

लड़की भावुक हो उठी. उसकी आँखें नम हो गई. उसने भगवान को दिल से धन्यवाद दिया. यह भगवान का प्यार ही था, जो नेक इंसानों के रूप में धरती पर अब भी जीवित था.

मित्रों, अच्छे कर्म कभी ज़ाया नहीं जाते. उसका फल कभी न कभी अवश्य मिलता है. हो सकता है, इसमें देर हो जाये, लेकिन किसी न किसी रूप में वह सामने अवश्य आता है. इसलिए निःस्वार्थ भाव से सदा अच्छे कर्म करना चाहिए.


दोस्तों, आपको “A Glass Of Milk Dr Howard Kelly Prerak Prasang” कैसा लगा? आप अपने बहुमूल्य कमेंट्स के माध्यम से हमें बता सकते हैं. धन्यवाद.

Read More Stories :

¤ मिलियन डॉलर पेंटिंग : पाब्लो पिकासो का प्रेरक प्रसंग

¤ बुद्ध के आँसु : गौतम बुद्ध का प्रेरक प्रसंग

¤ विवेक की शक्ति : सुकरात का प्रेरक प्रसंग 

¤ उदारता : महात्मा गांधी का प्रेरक प्रसंग 

 

Posted in Prerak Prasang and tagged , , , .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *